Question

  • कदली बंध लम्बे है B-H बंधों की तुलना में प्रबल है
  • B_2H_6 को 3c-2e यौगिक के रूप में जाना जाता है
  • B_2H_6 में B का संकरण sp^3 हैं
  • शुष्क ईथर की उपस्थिति में इसे BF_3 की LiAlH_4 के साथ क्रिया द्वारा नहीं बनाया जा सकता है

✨ Free AI Tools for You

Powered by Chatterbot AI

Answer

  • कदली बंध लंबे होते हैं और B-H बंधों की तुलना में अधिक प्रबल होते हैं।
  • $$B_2H_6$$ को एक 3c-2e यौगिक के रूप में जाना जाता है।
  • $$B_2H_6$$ में B का संकरण $sp^3$ है।
  • शुष्क ईथर की उपस्थिति में, इसे $BF_3$ की $LiAlH_4$ के साथ क्रिया द्वारा नहीं बनाया जा सकता है।

Final Answer: A :: B :: C


Was this helpful?